Matinum

Taking Charge of Your Health


नमस्कार, मेरे चैनल में आपका स्वागत है और आज इस वीडियो में हम चिंता, बेचैनी, मन में हजारों बातें घूमते रहना, न चाहते हुए भी विचार को रोक ना पाना जैसी समस्या को ठीक करने की होम्योपैथिक दवा के बारे में जानेंगे, वीडियो को पूरा अवश्य देखें ताकि आप पूरी तरह समझ पाएं, तो आइये समझते हैं। यहाँ हम अधिक चिंता और बेचैनी होने के कारण की चर्चा न करते हुए डायरेक्ट होम्योपैथिक दवा की चर्चा करेंगे कि किस दवा से ऐसी समस्या ठीक हो जाएगी। सबसे पहली दवा है SBL Tranquil Tablet – यह Stress And Anxiety के लिए बहुत अच्छी दवा है, इसमें कई सारी होम्योपैथिक दवा मिली हुई है जैसे कि :- Abrus Precatorius 6CH, Aconitum Napellus 6CH, Atropa Belladonna 6CH, Calendula Officinalis 6CH, Chelidonium Majus 6CH, Viburnum Opulus 6CH, Kali Phosphoricum 6CH, Zincum Picricum 6CH. यह सभी दवा Stress And Anxiety को ठीक करने में मदद करती है और सभी दवा मिलकर Anxiety को दूर करने की बेहतरीन कॉम्बिनेशन बनाती है। इस दवा का सेवन आपको करना ही है। इस दवा की 2 टेबलेट दिन में दो बार मुँह में लेकर चूसना है। आगे मैं जो दवा बताऊंगा, अगर लक्षण मिले तो आप उस दवा का उपयोग Tranquil Tablet के साथ में करें, रोग जड़ से ठीक हो जायेगा। Ignatia 200 – मानसिक-कष्टों के दुष्परिणामों की यह प्रमुख औषध है। मानसिक-स्थिति का बदलते रहना, कभी रोना, कभी हँसना, आहें भरना, सिसकियाँ लेना तथा किसी वियोगजन्य के दु:ख के कारण नींद न आना। इन लक्षणों में यह बहुत लाभ करती है। नये मानसिक-कष्ट में इसके प्रयोग से शीघ्र लाभ होता है। अगर रोग नया हो तो इस दवा को देने से रोग तुरंत ठीक हो जाता है। लक्षण मिलने पर इस दवा की 2 बून्द जीभ पर दिन में १ बार रोजाना लें। Magnesia Carb 200 – डॉ० क्लार्क के मतानुसार मानसिक-आघात एवं मानसिक-बेचैनी के फलस्वरूप उत्पन्न हुए कष्ट की यह प्रमुख औषध है। अगर स्त्री है, तो सदा शोकाकुल, निराश तथा दु:खी रहती है। उसके कांपते हुए हाथ, किसी काम में मन न लगना, चक्कर आना सिद्ध करते हैं कि उसकी जीवन-शक्ति का प्रवाह सूखता जा रहा है। रोगी शारीरिक तथा मानसिक दृष्टि से अत्यन्त नाजुक हो जाता है, कुछ सहन नहीं कर सकता। जरा-से शोर से परेशान हो जाता है, तो उसे रोजाना इस दवा को देना चाहिए। यदि मानसिक आघात के कारण कब्ज भी हो तो यह औषध बहुत लाभ करती है। Acid Phos 30 – मानसिक-कष्ट के दीर्घकालीन (पुराना) हो जाने पर यदि रोगी का उत्साह नष्ट हो गया हो, असफल-प्रेम के कारण उत्पन्न हुई निराशा, बच्चों को होस्टल आदि में अलग रहते समय माता-पिता की याद आना, इन्हीं कारणों से ज्वर, खोपड़ी पर बोझ का अनुभव, पसीना आना तथा मानसिक -उद्वेग के अन्य लक्षणों का प्रकट होना-ऐसी अवस्था में यह औषध लाभकर सिद्ध होती है। ऐसे लक्षण में इस दवा की 2 बून्द सुबह और शाम में लें। Natrum Mur 200 – मानसिक-कष्ट के पुराने हो जाने पर यह औषध भी ‘फास्फोरिक-ऐसिड’ की भाँति ही लाभकर सिद्ध होती है। चित्त में उदासी, रोने की इच्छा, किसी के द्वारा सहानुभूति प्रकट किये जाने पर क्रोध आना तथा चिढ़ जाना, स्वभाव में अधिक चिड़चिड़ापन, खोपड़ी पर भार का अनुभव एवं दर्द आदि लक्षणों में यह हितकर है। नया रोग में Ignatia 200 और पुराना रोग में Natrum Mur 200 का इस्तेमाल करें। लक्षण मिलने पर उस दवा को लें और साथ में SBL Tranquil Tablet दिन में 2 बार लेते रहें समस्या पूरी तरह से ठीक हो जायेगा और इन दवाओं का कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है तो निःसंकोच दवा का सेवन कर सकते हैं।

2 thoughts on “Top 5 Homeopathic Medicine For Anxiety

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *